Best hate Shayari,नफरत शायरी For Boy And Girl

Mere Paas waqt nhe hai unn logon sy,
Nafrat karny ka joo muj sy nafrat karty hai,
Kyuki mai masroof rahta hoon unn,
logon mein Joo mujhse mohabat karty hai.
मेरे पास वक़्त न्हे है उन् लोगो से,
नफरत कर्नय् का जो मुज से नफरत कर्त्य् है,
क्युकी मई मस्रूफ् रहता हूँ उन् लोगो मेइन् जो मोहबत कर्त्य् है.


Woh inkaar karte hain ikraar kay leye,
Nafrat bi karty hai too payar kay leye,
Ulti chaal chalty hai yaa ishq karny waly,
Aankhen band karty hai deedar kay leye.
वह इंकार करते है इकरार के लिए,
नफरत भी कर्त्य् है तो प्यार के लिए,
उलटी चाल छल्त्य् है या इश्क़ कर्न्य् वाले,
आँखें बंद कर्त्य् है दीदार के लिए.

Saare tabeez gale mai pehan kar dekh liye
Aaram too bas taray deedar say he mila.
सारे तबीज़् गले मई पहन कर देख लिए,
आराम तू बस तरय् दीदार से ही मिला.

Jeete the kabhi ham bhi shaan se,
Mehek uthti thi fiza kisi ky naam se,
Per guzray hai ham kuch aise mukaam se,
Ki nafrat si ho gye hai mohabat ky naam se.
जीते थे कभी हम भी शान से,
महक उठि थी फ़िज़ा किसी की नाम से,
पर गुज़्रय् है हम कुछ ऐसए मुकाम से,
की नफरत सी हो गए हैं मोहबत के नाम से.


Mujh se nafrat ki ajab raah nikali usne,
Hasta basta dil kar diya khali usne,
Mere ghar ki riwayat se woh khoob tha waqif,
Judai maang li ban ke sawali usne.
मुझ् से नफरत की अजब राह निकली उसने,
हस्ता बस्ता दिल कर दिया खली उसने,
मेरे घर की रिवयत् से वह खूब था वक़िफ्,
जुदाई मांग ली बन के सवलि उसने.

Nafrat ki dhoop me barsat se pehle,
Halaat na the aese teri mulaqat se pehle,
Har kisi ko hamdard samajh lete the,
Hum bhi kitne saada the muhabbaton ke tajburbat se pehle.
नफरत की धुप में बरसात से पहले,
हालात न थे अएसे तेरी मुलक़त् से पहले,
हर किसी के हम्दर्द् समाज लेते थे,
हम भी कितने सादा थे मुहब्बतों की तज्बुर्बत् से पहले.

Yaa mana ki badnaam hai hum,
Kar jate hai shararat kyuki insaan hai hum,
Lagaya na kariye hamari bato ko dil say,
Aapko to pata hai kitne nadaan hai hum.
या मन की बदनाम है हम,
कर जाते है शरारत क्युकी इंसान हैं हम,
लगाया न करिये हमारी बातो को दिल से,
आपको तू पता है कितने नादान ही हम.

Teri nafrat ma wo dam nahi,
Jo meri chahat ko mita de aye sanam,
Ye mohabat hai koi khel nahi,
Jo aaj hans ke khela aur kal roke bhula dein.
तेरी नफरत माँ वो फम् नहीं,
जो मेरी चाहत के मिटा दे ए सनम,
ये मोहबत है कोई खेल नहीं,
जो आज हंस के खेला और कल रोके भुला दें.

Zindagi se kise nafrat hoti hai,
Marne k chahat kise hoti hai,
Payar bhi ek ittefaq hota hai,
Warna aansuo se mohabat kise hoti hai.
ज़िन्दगी से किसे नफरत होती है,
मरने क् चाहत किसे होती है,
प्यार भी एक इत्तेफ़ाक़ होता है,
वर्ण आन्स् से मोहबत किसे होती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *